Jab Tak Na Lage Bewafayi Ki Thokar,
Har Kisi Ko Apni Pasand Par Naaz Hota Hai.

जब तक न लगे बेवफाई की ठोकर,
हर किसी को अपनी पसंद पर नाज़ होता है।

Leave a Reply