dosti shayari

नफरत करो उनसे जो भुलाना जानते हों,
रूठो उनसे जो मनाना जानते हों,
प्यार करो उनसे जो निभाना जानते हों,
दोस्ती उनसे जो दिल लुटाना जानते हों।

(Visited 92 times, 1 visits today)

Leave a Reply