Ajab Lutf Ka Manzar Dekhta Rahta Hoon Barish Mein,
Badan Jalta Hai Aur Main Bheegta Rahta Hun Barish Mein.

अजब लुत्फ़ का मंज़र देखता रहता हूँ बारिश में,
बदन जलता है और मैं भीगता रहता हूँ बारिश में।

(Visited 41 times, 2 visits today)

Leave a Reply