Hum Bheegte Hain Jis Tarah Se Teri Yaadon Me Doobkar,
Iss Baarish Me Kahan Wo Kashish Tere Khayalon Jaisi.

हम भीगते हैं जिस तरह से तेरी यादों में डूबकर,
इस बारिश में कहाँ वो कशिश तेरे ख्यालों जैसी।

(Visited 9 times, 1 visits today)

Leave a Reply