Apni Khushiyaan Lutakar Uspar Kurbaan Ho Jaun,
Kaash Kuchh Din Uske Shahar Ka Mehmaan Ho Jaun,
Wo Apna Nayab Dil Mujhko Dede, Aur Phir
Vapas Mange, Main Mukar Jaun Aur Beimaan Ho Jaun.

अपनी खुशियाँ लुटाकर उसपर कुर्बान हो जाऊ,
काश कुछ दिन उसके शहर का मेहमान हो जाऊ,
वो अपना नायाब दिल मुझको देदे, और फिर
वापस मांगे, मैं मुकर जाऊ और बेईमान हो जाऊ।

 

Badalti Rahti Hain Hakikaton Ki Barish Wakt Ke Saath,
Kaash… Ummeedon Ke Gharaunde Pattharon Se Banate.

kaash shayari status images

बदलती रहती हैं हकीकतों की बारिश वक्त के साथ,
काश… उम्मीदों के घरौंदे पत्थरों से बनाते।

 

Gair Ko Aane Na Doon Tum Ko Kahin Jaane Na Doon,
Kaash… Mil Jaye Tumhare Ghar Ki Darbaani Mujhe.

ग़ैर को आने न दूँ तुम को कहीं जाने न दूँ,
काश… मिल जाए तुम्हारे घर की दरबानी मुझे।

 

Kaash… Ek Khwahish Poori Ho Ibaadat Ke Bagair,
Wo Aakar Gale Laga Le, Meri Ijaajat Ke Bagair.

काश… एक ख्वाहिश पूरी हो इबादत के बगैर,
वो आकर गले लगा ले, मेरी इजाजत के बगैर।

 

Kaash… Kabhi Tum Samajh Pao Is Ishq Ke Junoon Ko,
Hairaan Rah Jaoge Mere Dil Mein Apni Kadar Dekh Kar.

काश… कभी तुम समझ पाओ इस इश्क के जुनून को,
हैरान रह जाओगे मेरे दिल में अपनी कदर देख कर।

 

Kaash… Ki Wo Laut Ke Aayen Mujhse Ye Kahne,
Ki Tum Kaun Hote Ho Mujhse Bichhadne Wale.

काश… कि वो लौट के आयें मुझसे ये कहने,
कि तुम कौन होते हो मुझसे बिछड़ने वाले।

 

Kaash Koi Apna Ho To Aaeene Jaisa Ho,
Jo Hanse Bhi Saath Mere Aur Roye Bhi Saath.

काश कोई अपना हो तो आईने जैसा हो,
जो हँसे भी साथ मेरे और रोए भी साथ।

 

Kaash Phir Milne Ki Vajah Mil Jaye,
Saath Jitna Bhi Bitaya Wo Pal Mil Jaye,
Chalo Apni Apni Aankhen Band Kar Len,
Kya Pata Khwabon Mein Guzra Hua Kal Mil Jaye.

काश फिर मिलने की वजह मिल जाए,
साथ जितना भी बिताया वो पल मिल जाए,
चलो अपनी अपनी आँखें बंद कर लें,
क्या पता ख़्वाबों में गुज़रा हुआ कल मिल जाए।

Kaash Mera Ghar Tere Ghar Ke Kareeb Hota,
Baat Karna Na Sahi Dekhna To Naseeb Hota.

काश मेरा घर तेरे घर के करीब होता,
बात करना न सही देखना तो नसीब होता।

Kaash Tu Bhi Ban Jaye Teri Yadon Ki Tarah,
Na Waqt Dekhe Na Bahana Bas Chali Aaye.

काश तू भी बन जाए तेरी यादों कि तरह,
न वक़्त देखे न बहाना बस चली आये।

Kaash Tu Itni Si Mohabbat Nibha De,
Jab Bhi Main Roothun To Tu Mujhe Mana Le.

काश तू इतनी सी मोहब्बत निभा दे,
जब भी मैं रूठूँ तो तू मुझे मना ले।

Kaash Tum Samajh Pate Mere Ankahe Alfaazon Ko,
To Ye Ehsaas Syahi Aur Kaagaz Ke Mohataaj Na Hote.

काश तुम समझ पाते मेरे अनकहे अल्फ़ाज़ों को,
तो ये एहसास स्याही और काग़ज़ के मोहताज ना होते।

Kaash… Tu Samajh Sakti Mohabbat Ke Usoolo Ko,
Kisi Ki Sanso Mein Samakar Use Tanha Nahin Karte.

काश… तू समझ सकती मोहब्बत के उसूलो को,
किसी की सांसो में समाकर उसे तन्हा नहीं करते।

Kaash… Wo Aa Jayen Aur Dekh Kar Kahen Mujhse,
Ham Mar Gaye Hain Kya? Jo Itne Udaas Rahate Ho.

काश… वो आ जायें और देख कर कहें मुझसे,
हम मर गये हैं क्या? जो इतने उदास रहते हो।

Kaash Wo Samajhte Is Dil Ki Tadap Ko,
To Hamen Yun Rusva Na Kiya Jaata,
Ye Berukhi Bhi Unki Manjoor Thi Hamen,
Ek Baar Bas Hamen Samajh Liya Hota.

काश वो समझते इस दिल की तड़प को,
तो हमें यूँ रुसवा ना किया जाता,
ये बेरुखी भी उनकी मंजूर थी हमें,
एक बार बस हमें समझ लिया होता।

Khuda Kare Kaash Wo Achanak Samne Aakar,
Mere Labon Ko Kuchh Naye Savaal De Jaay.

खुदा करे काश वो अचानक सामने आकर,
मेरे लबों को कुछ नए सवाल दे जायें।

Tere Husn Pe Tareefon Bhari Kitaab Likh Deta,
Kaash… Teri Wafa Tere Husn Ke Barabar Hoti .

तेरे हुस्न पे तारीफों भरी किताब लिख देता,
काश… तेरी वफ़ा तेरे हुस्न के बराबर होती।

Uski Hasrat Ko Mere Dil Mein Likhne Wale,
Kaash… Usko Bhi Meri Qismat Mein Likha Hota.

उसकी हसरत को मेरे दिल में लिखने वाले,
काश… उसको भी मेरी क़िस्मत में लिखा होता।

(Visited 162 times, 1 visits today)

Leave a Reply