sad shayari status images

 

Aane Waala Kal Achchha Hoga,
Bas Isi Soch Me Aaj Beet Jaata Hai.

आने वाला कल अच्छा होगा,
बस इसी सोच मे आज बीत जाता है।

Aasaan Nahin Yahan Kisi Ko Khud Se Juda Kar Paana,
Rooh Si Nikalati Hai Is Jism Se,
Door Jaane Ke Khyaal Bhar Se Hi,
Aa Bhi Jao Meri Aankhon Ke Roo-Ba-Ru Ab Tum,
Kitna Khwaabo Mein Tujhe Talaash Karun

आसां नही यहाँ किसी को खुद से जुदा कर पाना,
रूह सी निकलती है इस जिस्म से,
दूर जाने के ख्याल भर से ही,
आ भी जाओ मेरी आँखों के रू-ब-रू अब तुम,
कितना ख्वाबो में तुझे तलाश करूं।

Ab Tujhse Shikayat Karna,
Mere Haq Me Nahin
Kyuki Tu Aarzoo Meri Thi,
Par Amanat Shayad Kisi Aur Ki.

अब तुझसे शिकायत करना
मेरे हक मे नहीं,
क्योंकि तू आरजू मेरी थी
पर अमानत शायद किसी और की।

Agar Neend Aa Jaaye To, So Bhi Liya Karo,
Raaton Ko Jagne Se, Mohabbat Lauta Nahin Karti.

अगर नींद आ जाये तो, सो भी लिया करो,
रातों को जागने से, मोहब्बत लौटा नहीं करती।

Ajeeb Hai Mahobbat Ka Khel,
Ja Mujhe Nahi Khelna
Rooth Koi Aur Jaata Hai ,
Toot Koi Aur Jaata Hai.

अजीब है महोब्बत का खेल,
जा मुझे नही खेलना,
रूठ कोई और जाता है
टूट कोई और जाता है।

Ajeeb Sa Dard Hai In Dinon Yaaro,
Na Bataun To Kaayar, Bataoon To Shayar.

अजीब सा दर्द है इन दिनों यारों,
न बताऊं तो ‘कायर’, बताऊँ तो ‘शायर’।

Aur Jyada Bhadkate Ho Tum To Aag Mohabbat Ki,
Saajish-E-Dil Ko Ai Ashqo, Kya Khaak Bujhana Seekhe Ho.

और ज्यादा भड़काते हो तुम तो आग मोहब्बत की,
साजिश-ए-दिल को ऐ अश्को, क्या ख़ाक बुझाना सीखे हो।

Aye Khuda Log Banane The Pathar Ke Agar To
Mere Ehsaas Ko Sheeshe Sa Na Banaya Hota.

ऐ खुदा लोग बनाने थे पत्थर के अगर तो
मेरे एहसास को शीशे सा न बनाया होता।

Aye Mohabbat Tu Sharm Se Doob Mar,
Tu Ek Shakhs Ko Mera Na Kar Saki.

ऐ मोहब्बत तू शर्म से डूब मर,
तू एक शख्स को मेरा ना कर सकी।

Neha Sharma

Bahana Kyu Banate Ho Naraj Hone Ka
Kah Kyu Nahi Dete Ke Ab Dil Me Jagah Nahi Tumhare Liye.

बहाना क्यों बनाते हो नाराज होने का
कह क्यों नही देते के अब दिल मे जगह नही तुम्हारे लिए।

Bahut Andar Tak Basa Tha Wo Shakhs Mere,
Use Bhoolne Ke Liye Bada Waqt Chaahiye.

बहुत अंदर तक बसा था वो शख़्स मेरे,
उसे भूलने के लिए बड़ा वक़्त चाहिए।

Bahut Dar Lagta Hai Un Logo Se Jo…
Bato Mein Mithas Aur Dilo Mein Jahar Rakhte Hain.

बहुत डर लगता हैं उन लोगो से जो…
बातो में मिठास और दिलो में जहर रखते हैं।

Bahut Der Kar Di Tune Meri Dhadkane Mahasoos Karane Mein,
Wo Dil Neelaam Ho Gaya, Jispar Kabhi Hakumat Teri Thi.

बहुत देर कर दी तूने मेरी धडकनें महसूस करने में,
वो दिल नीलाम हो गया, जिसपर कभी हकुमत तेरी थी।

Bas Ek Bar Nikaal Do Is Ishq Se Ai Khuda,
Phir Jab Tak Jiyenge Koi Khata Na Karenge.

बस एक बार निकाल दो इस इश्क से ऐ खुदा,
फिर जब तक जियेंगे कोई खता न करेंगे।

Beshak Tere Phone Ki Koi Ummeed To Nahin Lekin,
Pata Nahin Kya Sochkar, Main Aaj Bhi Number Nahin Badalta.

बेशक तेरे फ़ोन की कोई उम्मीद तो नहीं लेकिन,
पता नहीं क्या सोचकर, मैं आज भी नंबर नहीं बदलता।

Bin Baat Ke Hi Roothne Ki Aadat Hai,
Kisi Apne Ka Saath Pane Ki Chaahat Hai,
Aap Khush Rahen, Mera Kya Hai Main To Aaina Hoon,
Mujhe To Tootane Ki Aadat Hai.

बिन बात के ही रूठने की आदत है,
किसी अपने का साथ पाने की चाहत है,
आप खुश रहें, मेरा क्या है मैं तो आईना हूँ,
मुझे तो टूटने की आदत है।

Chaha Tha Mukammal Ho Mere Gam Ki Kahani,
Main Likh Na Saka Kuchh Bhi Tere Naam Se Aage.

चाहा था मुक्कमल हो मेरे गम की कहानी,
मैं लिख ना सका कुछ भी तेरे नाम से आगे।

Chhup Ke Teri Tasviren Dekhta Hun,
Beshak Tu Khubsoorat Aaj Bhi Hai,
Par Chehre Par Wo Muskaan Nahin,
Jo Main Laya Karta Tha.

छुप के तेरी तस्वीरें देखता हूँ,
बेशक तू ख़ूबसूरत आज भी है,
पर चेहरे पर वो मुस्कान नहीं,
जो मैं लाया करता था।

Chupke Chupke Raat Din Aansoo Bahana Yaad Hai,
Ham Ko Ab Tak Aashiqi Ka Wo Zamana Yaad Hai.

चुपके चुपके रात दिन आँसू बहाना याद है,
हम को अब तक आशिक़ी का वो ज़माना याद है!
~ हसरत मोहानी

 

Dhokha Dene Ka Shukriya Ai-Mere Bichhde Huye Hamsafar,
Warna Zindagi Ka Matlab Hi Nahi Samajh Mein Aata.

धोखा देने का शुक्रिया ऐ-मेरे बिछड़े हुए हमससफर,
वरना ज़िन्दगी का मतलब ही नही समझ में आता।

Ek Zara Si Bhool Khata Ban Gayi,
Meri Wafa Hi Meri Saza Ban Gayi,
Dil Liya Aur Khel Kar Tod Diya Usne,
Hamari Jaan Gayi Aur Unki Adaa Ban Gayi.

एक ज़रा सी भूल खता बन गयी,
मेरी वफ़ा ही मेरी सजा बन गयी,
दिल लिया और खेल कर तोड़ दिया उसने,
हमारी जान गयी और उनकी अदा बन गयी।

Haath Ki Lakeeren Bhi Kitni Ajeeb Hain,
Haath Ke Andar Hain Par Kaabu Se Bahar.

हाथ की लकीरें भी कितनी अजीब हैं,
हाथ के अन्दर हैं पर काबू से बाहर।

Humne Tumhein Us Din Se Aur Bhi Zyada Chaha Hai,
Jab se Maaloom Hua Tum Humare Hona Nahi Chahte.

हमने तुम्हें उस दिन से और भी ज़्यादा चाहा है,
जब से मालूम हुआ तुम हमारे होना नही चाहते।

Ishq Ka Dhandha Hi Band Kar Diya Saaheb,
Munafe Mein Jeb Jale, Aur Ghaate Mein Dil.

इश्क का धंधा ही बंद कर दिया साहेब,
मुनाफे में जेब जले, और घाटे में दिल।

Itni Dilqash Aankhen Hone Ka,
Ye Matlab To Nahi Ki, Jise Dekho Use Barbaad Kar Do.

इतनी दिलक़श आँखें होने का,
ये मतलब तो नही कि, जिसे देखो उसे बरबाद कर दो।

Jab Milo Kisi Se
To Jara Door Ka Rishta Rakhna,
Bahut Tadpaate Hain
Aksar Seene Se Lagaane Waale.

जब मिलो किसी से
तो जरा दूर का रिश्ता रखना,
बहुत तङपाते है
अक्सर सीने से लगाने वाले।

Jab Wo Mile Hamse Arse Baad To,
Unhone Poochha Haal-Chaal Kaisa Hai,
To Hamne Kaha Tumhari Chali Chaal Se
Mera Haal Badal Gaya…

जब वो मिले हमसे अरसे बाद तो
उन्होने पूछा हाल-चाल कैसा है,
तो हमने कहा तुम्हारी चली चाल से
मेरा हाल बदल गया…

Jo Kaha Karte The Kabhi Tumhe Na Bhool Payenge,
Mile Jo Kal To Bole… Lagta Hai Kah Dekha Hai.

जो कहा करते थे कभी तुम्हे ना भूल पायेंगे,
मिले जो कल तो बोले लगता है कही देखा है।

Khoya Hoon Tere Khyalon Mein Par
Teri Aankhon Ko Ab Meri Jarurat Nahin.
Chaahta Hoon Phir Laut Aao Tum
Meri Baanhon Mein
Par Laut Aana Waqt Ki Aadat Nahin.

खोया हूँ तेरे ख्यालों में पर
तेरी आँखों को अब मेरी जरुरत नहीं।
चाहता हूँ फिर लौट आओ तुम
मेरी बाँहों में
पर लौट आना वक़्त की आदत नहीं।

Kitna Ajeeb Hai Logon Ka
Andaaz-E-Mohabbat
Roz Ek Naya Zakhm Dekar Kahte Hain
Apna Khyaal Rakhna.

कितना अजीब है लोगों का
अंदाज़-ए-मोहब्बत
रोज़ एक नया ज़ख्म देकर कहते हैं
अपना ख्याल रखना।

Kuchh Haar Gayi Takadeer Kuchh Toot Gaye Sapne,
Kuchh Gairon Ne Kiya Barbaad Kuchh Bhool Gaye Apne.

कुछ हार गई तकदीर कुछ टूट गये सपने,
कुछ गैरों ने किया बरबाद कुछ भूल गये अपने।

Kya Gham Hai, Kya Khushi Maloom Nahi,
Apna Hai Ki Ajnabi Maloom Nahi,
Jiske Bina Ek Pal Nahi Guzarta,
Kaise Guzregi Ye Zindagi Maloom Nahi.

क्या ग़म है, क्या ख़ुशी मालूम नहीं,
अपना है की अजनबी मालूम नहीं,
जिसके बिना एक पल नहीं गुज़रता,
कैसे गुज़रेगी ये ज़िन्दगी मालूम नहीं।

Log Poochhte Hain Kyu Surkh Hain Tumhari Aankhe,
Hans Ke Kah Deta Hoon Raat So Na Saka,
Laakh Chaahoon Magar Ye Kah Na Sakoon,
Raat Rone Ki Hasarat Thi Ro Na Saka.

लोग पूछते हैं क्यों सुर्ख हैं तुम्हारी आँखे,
हंस के कह देता हूँ रात सो ना सका,
लाख चाहूं मगर ये कह ना सकूँ,
रात रोने की हसरत थी रो ना सका।

Mana Ki Tere Pyar Ka Main Maalik Nahin,
Par Kirayedar Ka Bhi Kuchh Haq To Banta Hai.

माना की तेरे प्यार का मैं मालिक नहीं,
पर किरायेदार का भी कुछ हक तो बनता है।

Mat Kar Itni Mohobbat Ai Dil,
Pyar Ka Dard Seh Na Payega,
Toot Jayega Kisi Din Apno Ke Haathon Se,
Kisne Toda Yeh Bhi Kisi Se Keh Na Payega.

मत कर इतनी मोहब्बत ऐ दिल,
प्यार का दर्द सह न पायेगा,
टूट जायेगा किसी दिन अपनों के हाथों से,
किसने तोड़ा यह भी किसी से कह न पायेगा।

sonam

Mere Bina Kya Apne Aap Ko Sanwaar Loge Tum,
“Ishq” Hun Koyi Zewar Nahin Jo Utaar Doge Tum.

मेरे बिना क्या अपने आप को सँवार लोगे तुम,
“इश्क़” हूँ कोई ज़ेवर नहीं जो उतार दोगे तुम।

Meri Aankhon Ko Surkh Dekh Kar Kahte Hain Log,
Lagta Hai..Tera Pyaar Tujhe Aazmaata Bahut Hai.

मेरी आँखों को सुर्ख़ देख कर कहते हैं लोग,
लगता है..तेरा प्यार तुझे आज़माता बहुत है।

Meri Koshish Kabhi Kamyaab Na Ho Saki,
Pahle Tujhe Pane Ki Phir Tujhe Bhulane Ki.

मेरी कोशिश कभी कामयाब ना हो सकी,
पहले तुझे पाने की फिर तुझे भुलाने की।

Meri Shayari Ko Log Itni Siddat Se Padhte Hain,
Jaise In Sabne Bhi Kisi Ajnabi Se Mohabbat Ki Ho.

मेरी शायरी को लोग इतनी सिद्दत से पढते हैं,
जैसे इन सबने भी किसी अजनबी से मोहब्बत की हो।

Muddat Ke Baad Aaj Use Dekh Kar Muneer,
Ik Baar Dil To Dhadka Magar Phir Sanbhal Gaya.

मुद्दत के बाद आज उसे देख कर ‘मुनीर’,
इक बार दिल तो धड़का मगर फिर सँभल गया।
~ मुनीर नियाज़ी

Mujhe Rula Kar Sona To Teri Aadat Ban Gayi Hai,
Jis Din Meri Aankh Na Khuli Tujhe Neend Se Nafrat Ho Jaygi.

मुझे रुला कर सोना तो तेरी आदत बन गई है,
जिस दिन मेरी आँख ना खुली तुझे नींद से नफरत हो जायगी।

Na Jane Kis Baat Pe Wo Naraj Hain Hamse,
Khwabon Me Bhi Milta Hoon To Baat Nahi Karti.

ना जाने किस बात पे वो नाराज हैं हमसे,
ख्वाबों मे भी मिलता हूँ तो बात नही करती।

Na Karvatein Thi Na Bechainiyaan Thi,
Kya Gazab Ki Neend Thi Mohabbat Se Pehle.

न करवटे थी न बेचैनियाँ थी,
क्या गजब की नीँद थी मोहब्बत से पहले।

Narajgi, Dar, Nafrat Ya Phir Pyar,
Kuchh To Jarur Hai Jo Tum Mujh Se Door Door Rahte Ho.

नाराजगी, डर, नफरत या फिर प्यार,
कुछ तो जरुर है जो तुम मुझ से दूर दूर रहते हो।

Rishte Unhi Se Banao Jo Nibhane Ki Aukaat Rakhte Hon,
Baaki Har Ek Dil Kaabil-Ai-Wapha Nahi Hota

रिश्ते उन्ही से बनाओ जो निभाने की औकात रखते हों,
बाकी हर एक दिल काबिल-ऐ-वफा नही होता ।

Sach Hai Ki Mujhe Sambhlna Hoga,
Toot Kar Bikharne Se Bachana Hoga.
Seene Mein Jal Rahi Hai Jo Aag,
Wo Aaj Kaafi Nahin Hai,
Aaj Patthar Ko Bhi Pighalna Hoga.

सच है कि मुझे संभलना होगा,
टूट कर बिखरने से बचना होगा।
सीने में जल रही है जो आग,
वो आज काफी नहीं है,
आज पत्थर को भी पिघलना होगा।

Sochta Raha Ye Raatbhar Karavat Badal Badal Kar,
Jane Wo Kyu Badal Gaya, Mujhko Itna Badalkar.

सोचता रहा ये रातभर करवट बदल बदल कर,
जानें वो क्यों बदल गया, मुझको इतना बदल कर।

Suna Hai Wo Mujhe Bhool Chuki Hai,
Aur To Kuchh Nahin Bas, Uski Himmat Ki Daad Deta Hoon.

सुना है वो मुझे भुल चुकी है,
और तो कुछ नहीं बस, उसकी हिंम्मत की दाद देता हूँ।

Suno Koi Toot Raha Hai Tumhe Ehsaas Dilate Dilate,
Seekh Bhi Jao Kisi Ki Chahat Ki Kadar Karna.

सुनो कोई टूट रहा है तुम्हे एहसास दिलाते दिलाते,
सीख भी जाओ किसी की चाहत की कदर करना।

Suno Na Ham Par Mohabbat Nahi Aati Tumhen,
Ai Mere Sanam Raham To Aata Hi Hoga?

सुनो ना हम पर मोहब्बत नही आती तुम्हें,
ऐ मेरे सनम रहम तो आता ही होगा?

Tadap Uthte Hain, Unhen Yaad Karke,
Jo Gae Hain, Hame Barbaad Karke,
Ab To Itna Hi Taalluk Rah Gaya Hai
Ki Ro Lete Hain, Bas Unhen Yaad Karke.

तड़प उठते हैं, उन्हें याद करके,
जो गए हैं, हमे बर्बाद करके,
अब तो इतना ही ताल्लुक रह गया है
कि रो लेते हैं, बस उन्हें याद करके।

Toota Dil Aur Dhadakan Ko Ehsaas Na Hua.
Paas Hokar Bhi Wo Dil Ke Paas Na Raha.
Jab Door Thi To, Jaan Thi Meri.
Aaj Jab Ham Qareeb Aaye To Wo Ehsaas Na Raha.

टूटा दिल और धड़कन को एहसास ना हुआ।
पास होकर भी वो दिल के पास न रहा।
जब दूर थी तो,जान थी मेरी।
आज जब हम क़रीब आये तो वो एहसास ना रहा।

Tu Itna Pyar Kar Jitna Tu Sah Sake,
Bichhadna Bhi Pade To Zinda Rah Sake.

तू इतना प्यार कर जितना तू सह सके,
बिछड़ना भी पड़े तो ज़िंदा रह सके।

Tune Haseen Se Haseen Chehron Ko Udaas Kiya Hai,
Ai Ishq Agar Tu Insan Hota To Teri Khair Nahin Hoti.

तूने हसीन से हसीन चेहरों को उदास किया है,
ए इश्क अगर तू इन्सान होता तो तेरी खैर नहीं होती।

Uljhi Sham Ko Pane Ki Zid Na Karo,
Na Ho Apna Use Apnane Ki Zid Na Karo,
Is Samander Me Tufaan Bahut Aate Hain,
Iske Shahil Par Ghar Basane Ki Zid Na Karo.

उलझी शाम को पाने की ज़िद न करो,
न हो अपना उसे अपनाने की ज़िद न करो,
इस समंदर में तूफ़ान बहुत आते हैं,
इसके साहिल पर घर बसाने की ज़िद न करो।

Use Gairon Se Baat Karte Dekha To Thodi Takalif Hui,
Phir Yaad Aaya Ham Kaun Sa Uske Apne The.

उसे गैरों से बात करते देखा तो थोड़ी तकलीफ हुई,
फिर याद आया हम कौन सा उसके अपने थे।

Wo Aaj Phir Se Mile Ajnabi Bankar,
Aur Hamen Aaj Phir Se Mohabbat Ho Gayi.

वो आज फिर से मिले अजनबी बनकर,
और हमें आज फिर से मोहब्बत हो गई।

Wo Be-Dard Gairon Mein Khushiyaan Manata Raha,
Aur Hame Apni Hi Hansi Ke Liye Tadpata Raha.

वो बे-दर्द गैरों में खुशियां मनाता रहा,
और हमे अपनी ही हँसी के लिए तड़पाता रहा।

Ye Meri Mahobbat Aur Uski Nafrat Ka Mamla Hai,
Ai Mere Naseeb Tu Beech Mein Dakhal-Andaji Mat Kar.

ये मेरी महोब्बत और उसकी नफरत का मामला है,
ऐ मेरे नसीब तू बीच में दखल-अंदाज़ी मत कर।

(Visited 2 times, 1 visits today)

Leave a Reply