khwaab shayari love shayari

Aa Bhi Jao Meri Aankhon Ke Roobaroo Ab Tum,
Kitna Khwavon Mein Tujhe Aur Talaasha Jaye.

niya

khwaab shayari love shayari

आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम,
कितना ख्वावों में तुझे और तलाशा जाए।

aankhein khwaab love emotional shayari

aankhein khwaab love emotional shayari

Aankhein Khuli To Jaag Uthi Hasratein Tamaam,
Us Ko Bhi Kho Diya Jise Paaya Tha Khwaab Mein.

aankhein khwaab love emotional shayari

आँखें खुलीं तो जाग उठीं हसरतें तमाम,
उस को भी खो दिया जिसे पाया था ख़्वाब में।

 

Aa Jaate Hain Wo Roj Khwaabon Me,
Jo Kahte Hain Hum To Kahin Jate Hi Nahi.

आ जाते हैं वो भी रोज ख्वाबों में,
जो कहते हैं हम तो कहीं जाते ही नहीं।

 

Aaj Dil Ne Tere Deedaar Ki Khwaahish Rakhi Hai,
Mile Agar Fhursat To Khwaabon Me Aa Jana.

आज दिल ने तेरे दीदार की ख्वाहिश रखी है,
मिले अगर फुरसत तो ख्वाबों मे आ जाना।

Aankhon Mein Jo Bhar Loge To Kanton Se Chubhenge,
Ye Khwaab To Palkon Pe Sajaane Ke Liye Hain.

आँखों में जो भर लोगे तो काँटों से चुभेंगे,
ये ख़्वाब तो पलकों पे सजाने के लिए हैं।

Abhi Wo Aankh Bhi Soi Nahin Hai,
Abhi Wo Khwaab Bhi Jaaga Hua Hai.

अभी वो आँख भी सोई नहीं है,
अभी वो ख़्वाब भी जागा हुआ है।

Aaj Dil Ne Tere Deedaar Ki Khwaahish Rakhi Hai,
Mile Agar Fursat To Khwaabon Me Aa Jana.

आज दिल ने तेरे दीदार की ख्वाहिश रखी है,
मिले अगर फुरसत तो ख्वाबों मे आ जाना।

Chhu Jaate Ho Tum Mujhe Har Roj Ek Naya Khvaab Bankar,
Ye Duniya To Khamkha Kahti Hai Ki Tum Mere Kareeb Nahin.

छु जाते हो तुम मुझे हर रोज एक नया ख्वाब बनकर,
ये दुनिया तो खामखा कहती है कि तुम मेरे करीब नहीं।

People love to drink coffee at night. Whenever you are awake at night you might be thinking about someone or doing your work, coffee helps in focus . But do you know there are many side effects of coffee .

So, do not take coffee daily . Try to avoid on times and get a sub for it. You may take some tea or other drink like flavoured milk etc.

Ek Halki Si Jhalak Kya Mili Bechain Nazron Ko,
Hazaron Khwaab Dil Ne Dekh Dale Chand Lamhon Mein.

 

एक हल्की सी झलक क्या मिली बेचैन नज़रों को,
हज़ारों ख़्वाब दिल ने देख डाले चंद लम्हों में।

 

Ek Muskaan Tu Mujhe Ek Baar De De,
Khwaab Mein Hi Sahi Ek Deedaar De De,
Bas Ek Baar Kar De Tu Aane Ka Vada,
Phir Umr Bhar Ka Chahe Intazaar De De.

 

एक मुस्कान तू मुझे एक बार दे दे,
ख्वाब में ही सही एक दीदार दे दे,
बस एक बार कर दे तू आने का वादा,
फिर उम्र भर का चाहे इन्तजार दे दे।

 

Jeena Muhaal Kar Rakha Hai Meri In Aankhon Ne,
Khuli Ho To Talaash Teri, Band Ho To Khwaab Tere.

 

ज़ीना मुहाल कर रखा है मेरी इन आँखों ने,
खुली हो तो तलाश तेरी बंद हो तो ख्वाब तेरे।

 

Kal Yahi Khwaab Hakeekat Mein Badal Jayenge,
Aaj Jo Khwaab Fhakat Khwaab Najar Aate Hain.

 

कल यही ख्वाब हकीकत में बदल जायेंगे,
आज जो ख्वाब फकत ख्वाब नजर आते हैं।

 

Khuda Ka Shukr Hai Ki Usne Khwaab Bana Diye,
Warna Tumhen Dekhne Ki Hasrat Rah Hi Jaati.

 

खुदा का शुक्र है कि उसने ख्वाब बना दिये,
वरना तुम्हें देखने की हसरत रह ही जाती।

 

Khwaab Aankhon Se Gaye, Neend Raaton Se Gayi,
Wo Gaya To Aise Laga, Zindagi Haantho Se Gayi.

 

ख़्वाब आँखों से गए, नींद रातों से गई,
वो गया तो ऐसे लगा, ज़िंदगी हाँथो से गई।

 

Khwaab Hi Khwaab Kab Talak Dekhoon,
Kaash Tujh Ko Bhi Ik Jhalak Dekhoon.

 

ख़्वाब ही ख़्वाब कब तलक देखूँ,
काश तुझ को भी इक झलक देखूँ।

 

Khwaab Ka Rishta Haqeeqat Se Na Joda Jaye,
Aaeena Hai Ise Patthar Se Na Toda Jaye.

 

ख़्वाब का रिश्ता हक़ीक़त से न जोड़ा जाए,
आईना है इसे पत्थर से न तोड़ा जाए।

 

Khwaab Mein Bhi To Nazar Bhar Ke Na Dekha Unko,
Ye Bhi Aadaab-E-Mohabbat Ko Gavaara Na Hua.

 

ख़्वाब में भी तो नज़र भर के न देखा उनको,
ये भी आदाब-ए-मोहब्बत को गवारा न हुआ।

 

Khwaab Waise To Ik Inaayat Hai,
Aankh Khul Jaye To Musebat Hai.

 

ख़्वाब वैसे तो इक इनायत है,
आँख खुल जाए तो मुसीबत है।

 

Koi Mila Hi Nahin Jis Ko Saunpte Mohasin,
Ham Apne Khwaab Ki Khushbu, Khyal Ka Mausam.

कोई मिला ही नहीं जिस को सौपते मोहसिन,
हम अपने ख्वाब की खुशबु, ख्याल का मौसम।

khwaab shayari love shayari

Raat Badi Mushkil Se Khud Ko Sulaya Hai Maine,
Apni Aankhon Ko Tere Khwaab Ka Lalach Dekar.

khwaab shayari love shayari

रात बड़ी मुश्किल से खुद को सुलाया है मैंने,
अपनी आँखों को तेरे ख्वाब का लालच देकर।

 

Taabeer Jo Mil Jati To Ek Khwaab Bahut Tha,
Jo Shakhs Ganva Baithe Hai Nayab Bahut Tha,
Mai Kaise Bacha Leta Bhala Kashti-E-Dil Ko,
Dariya-E-Muhabbat Me Sailaab Bahut Tha.

 

ताबीर जो मिल जाती तो एक ख्वाब बहुत था,
जो शख्स गँवा बैठे है नायाब बहुत था,
मै कैसे बचा लेता भला कश्ती-ए-दिल को,
दरिया-ए-मुहब्बत मे सैलाब बहुत था।

Khwaab shayari love shayari

Tarsega Jab Dil Tumhara Meri Mulakaat Ko,
Tab Aa Jayenge Khwaabon Mein Hum Usi Raat Ko.

Khwaab shayari love shayari

तरसेगा जब दिल तुम्हारा मेरी मुलाकात को,
तब आ जायेंगे ख्वाबों मे हम उसी रात को।

(Visited 2 times, 1 visits today)

Leave a Reply