Aankhein Shayari

Jab Bhi Dekhta Hoon Mujhse Har Baar Nazarein Chura Leti Hai,
Maine Kagaz Par Bhi Bana Ke Dekhi Hain Aankhein Uski.

जब भी देखता हूँ मुझसे हरबार नज़रें चुरा लेती है,
मैंने कागज़ पर भी बना के देखी हैं आँखें उसकी।

Leave a Reply