nazar shayari aankhein shayari

Kaash Hamare Vaadon Ka Matlab Wo Samajhte,
Kaash Us Khamoshi Ka Matlab Wo Samajhte,
Nazar Milti Hai Hazaron Nazron Se,
Kaash Hamari Nazron Ka Matlab Wo Samajhte.

काश हमारे वादों का मतलब वो समझते,
काश उस खामोशी का मतलब वो समझते,
नजर मिलती है हज़ारों नजरों से,
काश हमारी नज़रों का मतलब वो समझते।

Leave a Reply